सच झूठ

सच को तमीज़ ही नहीं बात करने की,

झूठ को देखो कितना मीठा बोलता है।