DARD BHARA DIL,DARD BHARI SHAYARI

दिल को ऐसा दर्द मिला जिसकी दवा नहीं,

फिर भी खुश हूँ मुझे उस से कोई शिकवा नहीं,

और कितने अश्क बहाऊँ अब उस के लिए,

जिसको खुदा ने मेरी किस्मत में लिखा ही नहीं।

कुछ चीज़े हम पुरानी छोड़ आये हैं,

आते आते उसकी आँखों में पानी छोड़ आये हैं,

ये ऐसा दर्द है जो बयां हो ही नहीं सकता,

दिल तो साथ ले आये धड़कन छोड़ आये है।

मेरा हर ज़ख़्म उसकी मेहरबानी है,

मेरी ज़िन्दगी तो एक अधूरी कहानी है,

चाहता तो मिटा देते हर दर्द को,

मगर ये दर्द ही तो उसकी आखरी निशानी है।

or shayri padhna leya is blog par aye
sonamkomal.blogspot.com

छलना

समय की छलना में राणा को
घास भी खाना पड़ता है
राम को कुछ छण पूर्व तिलक
घर छोड़ के जाना पड़ता है
समय ही केवल छल बल शाली
जगती की जलमाया में
चलते चलना चेतनता है
बस रुक जाना जड़ता है।

Shayri

vo bhi kya jamana ,jab sab ajad na rha,..
vo bhi…kya jamana ,..jab sab ajaad na rha ..
chidiya,
…pinjade me gunguna rha

कुर्बानी का वक्त

नेता बनने की कुछ की ख्वाहिशें
जो बड़ी भीड़ के आगे चिल्ला रहे हैं
‘घरों से निकलो कि ये कुर्बानी का वक्त है’
और वो जो डिब्बों में भरा पेट्रोल दे गये हैं
इनका सियासी सांठ-गांठ अगर आप समझ लो;
अगर आप समझ लो कि ये जहरीली जुबान वाले
हाथों में माइक लिए जो हैं ‘सांपों के औलादे’ हैं
और वो जो मसीहे बन बैठे हैं धर्म की कुर्सियों पर
पानी नहीं, बेगुनाहों के खून पी पी कर जी रहे हैं
तो पाओगे,
ये जो देश जल रहा है
बेवजह जल रहा है|

Tanhayi

Zamaane ne Bohot sataaya yeh kehe Kar ki dekh vo tuje aaj phir akela Kar k chali gai is zamaane ko Kon samjai vo apni jhaga Meri tanhayi chhod gai ki vo apni

Prayer to Death

This is a poem about a soul, who always tried to evade death by citing various reasons.Right from the time, soul entered the womb, the Lord of death kept on chasing the soul.At the time of birth, childhood, teenage, youth, married one, retired one , the old age,Death visited the soul , but each time the soul cited various excused and prayed for some more time. The Poem ends with confession of Soul. 

Limbs are yet to grow,

am just in the womb,

Eyes are, but without brow,

and heart is yet to pump.

O Death,you must be having ,

other things to occupy.

Am such a little kid, 

just attempting to walk,

still stutter in uttering, 

am striving to talk.

O Death, come later,

i won’t defy.

My friends are few ,

more have to be made,

Books are left unread,

 games are to be played.

O Death, hold on, 

not the time yet to reply.

Have fallen in love, 

with gorgeous wife,

Heart is singing and,

 joy has come to life.

O Death, give me some time,

 & I will comply.

Children, to be taken care of, 

elders to be protected,

Ethics in society shaken, 

needs to be corrected,

O Death, time is still not ripe,

 to tell the life a good bye.

Though money I have made, 

but no time to spend,

Erred in life many times,

 still left ways to amend.

O Death, time is still not ripe, 

please do not pry.

Yes my hairs have fallen,

 and I have grown old,

But still Life is a mystery,

 which I have to unfold.

O Death, come next time, 

I won’t deny.

The more I desire, the more I pray,

Lust turning hunter and me its prey,

Still frustrated, still unsated

Craving for life, swinging midway .

O Death, the truth is that,

I do not want to die,I never want to die.