गिर गया तो क्या तू फ…

गिर गया तो क्या तू फिर उठ खड़ा हो,
रास्ता तो तेरा खुद ब खुद बन जाएगा।
हताश होकर अधीर होने से क्या होगा,
ऐसा कर तू बस नाकाम ही कहलाएगा।

बेशक आज का वक़्त सही नहीं है तेरा,
कल तेरा अच्छा दिन भी जरूर आएगा।
खुद को जलना पड़ेगा अपने लिए तुझे,
फिर ये निविड अंधेरा कहां टिक पाएगा।

इमारत को बनने के लिए वक़्त लगता है
सब्र रख बस तू सब आसान हो जायेगा।
रोने के मौके बहुत आए होंगे ना पास तेरे,
आज मेहनत से तू कल सिर्फ मुस्कुराएगा।

धूल जमी पड़ी है मंजिल की राह पर तेरे,
परिश्रम से तू अपना रास्ता खुद बनाएगा।
तेरा विहान और विधान तू खुद ही तो है
तेरे प्रयासों से तू अपना भविष्य बनाएगा।

ruka nhi

Jhebe choti par unmein sapne bade the,
Mujhe raaho mein rokne k liye mere apne hi khade the.

Na jane kitne hi fasane the , ruk jane k kitne hi bahane the .

Tamaam sapne aankhon mein samet mai ghar se nikal gya ,
Mere kalam se siyahi ,guzarte waqt sa fisal gya….

Koi malaal na tha mujhe, bs ek khayal tha,
Ki jab saansein meri tham jaye, mere sabd kuch bhikhar jaye ,
Mera naam meri kavitaon se zara sa duniya mein nikhar jaye…

mom

मैं रात भर जन्नत की सैर करता रहा यारों,
“सुबह आँख खुली तो देखा” मेरा सर माँ के कदमों में था ।

Motivation

ab waqt hai jalah de seene me chingaari junoon ka…

ab waqt hai..dek har woh khaab terey junoon ka…

ab waqt hai..sach me badal de…
har woh khaab terey junoon ka…

kehne dey unko..kehne dey unko..pagal pan sa hai ye junoon tera..

Mat bhul thu..Mat bhul thu..
Yahi woh pagal junoon hai..
Mashoor bana dega…

ab waqt hai.. bechaa de aapne ye par …safar kar thu asmaanon ka…

ab waqt hai…ab waqt hai…dekh ab thu ye sari zameen kaarkhana hai tera…

mehsoos kar thu apne aapko..Bas ek baar jaladey seene me junoon ki is cingaari ka…