sad

Hm uske pyar me deewane ho gye
Lgta hai mujhe hm shayar ho gye

sayeri

ले जा ऊजाड़ के ए घोंसला अपना
अब तलक तु मेरै गाँव में क्या कर रहा है।
आरै वह चिड़ीया तो ऊड़ के कब के चली गईं
दुसरै शहर
तु अब किसका लोटने का ईनतजार कर राहा है।

मिट्टी

दुनिया में एक दिन ऐसा ज़रूर आयेगा
साँस थम जायेगी और वक़्त रुक जायेगा

मिट्टी में जन्मा तू और मिट्टी ही बन जायेगा
जिसपे तू इतराया इतना यही छोड़ जायेगा

क़ुबूल हैं

वो खिज़ा में झड़ते पत्ते
वो नदी का सूखा जाना

वो जन्नत तक जाते रश्ते
वो साखों का झुक जाना

सब हमे क़ुबूल हैं

वो इश्क़ के तामीर छत्ते
वो परिंदे का वापस आना

वो काँधे में यादों के बस्ते
वो मंज़िल का मुकर जाना

सब हमे क़ुबूल हैं

वो सुकून के साथी फ़रिश्ते
वो नींदों को ख़्वाब का फुसलाना

वो अंगारों से दहकते रिश्ते
वो आंसुओं से शोले बुझाना

सब हमे क़ुबूल हैं

Asvony_Singh