मेघ

होगा क्या रिश्ता हमारे बीच,
क्या कह कर बुलाओगे तुम मुझे ,
उसने मुझसे बार – बार पूछा था

मेरा मन बार-बार सवाल ठुकराता रहा
पर मैं भी उसे मेघ कह के बुलाया था

मिला था मैं बादलों (लेखकों) की दुनियां में उनसे
हंसता चेहरा ,नाम था मेघ
शायद हां शायद उसे था मुझसे नेह
पर उम्र अपना मुझसे बड़ी बताया था

वो मेघ थी , मैं जमीं था
वो खुली आसमानों से थी,
मैं कैदी जमीनी तेहखनों से था
मगर मेघ की क़िस्मत,
उसे तो गिरकर जमीं पर ही आना था

वो अपनी खूबसूरती के लिए मशहूर थी
मैं बदनाम जमीं मेघ के लिए मजबूर था

chala jauga❤

अगर तुमसे कोई पूछे बताओ ज़िन्दगी क्या है,
हथेली पर जरा सी राख़ रखना और उड़ा देना।

प्यार की राहों में

सो गई हैं यह जमीन
बारिश की बाहों में
दिल में मेरे बादल गरजे
तेरी प्यार की राहों में
हो ओ,, दिल में मेरे बादल गरजे
तेरी प्यार की राहों में

बारिश की बूंद जैसे
दिल में अरमान मचलने लगे
कब कहा यह बरस जाए
तू उसे संभाल ले
डूबी हैं यह नीला समा
कुहरे की चादरों में
दिल में मेरे बादल गरजे
तेरी प्यार की राहों में

फिसलने लगी हैं कितने सपने
जो दिखे थे तेरी संग में
दार लगता है अब सदा
बेह ना जाओ तन्हाइयों में
तेरी रौशनी की ऐक जलक
बचा ले मुझको अंधेरों में
दिल में मेरे बादल गरजे
तेरी प्यार की राहों में

क्या वक़्त इतना बदल ग…

क्या वक़्त इतना बदल गया,
कि हम आपसे बात भी नही कर सकते .

क्या नीव इतनी कमजोर रखी थी हमने ,
कि एक बरसात भी नहीं सह सकी .

क्या तुम इतने खुदगर्ज हो गये ,
कि तुमसे अब शिकायत भी नहीं कर सकते .

क्या कुछ भी नहीं बचा हुआ है ईमारत मे ,
कि जिसको हम आज भी देख सकते है निघाओ से .

क्या तुम इतने बदल गये गरो की तरह,
कि हम आपसे कुछ गुजारिश भी नही कर सकते .

क्या तुम इतने मगरूर हो गये अपने आप ही ,
कि तुमसे तुम्हारी खुदगर्जी पर नाराज़ भी नही हो सकते .

क्या वक़्त इतना बदल गया,
क्या वक़्त सच मे इतना बदल गया.

क्या कोई भी लम्हा तुम्हे याद नही,
कि जिसको हम एक साथ जी सके .

क्या सब जो अपने थे वो सब भी बदल गये,
जो बुझते चिराग को साहरा देने भी ना आ सके .

क्या वक़्त इतना बदल गया,
क्या वक़्त सच मे इतना बदल गया.

इतना सब कुछ बदल जाने के बाद भी ,
तुझे मुझसे छीन ले जाये कोई, ऐसी किसी की औकात नही …….

खूबसूरती ही प्यार नह…

खूबसूरती ही प्यार नहीं होता
सिर्फ… खूबसूरती ही प्यार नहीं होता…
अगर
कभी ऐसा होता, तो…..
इज्जत बाज़ार में शरेआम
बिक रहा ना होता….

love

sune hai pyar me thokar khane se
kavi ban jate hai
mai bhi thokar khana chata hu
cchot to nahi lage ge na

Finally

There was a maze in our gaze,
Finger interlocking in pace.
Finally the kiss broke with smile,
Tears flowed like a river Nile.
Few days left…
My thoughts are mess.
These memories can never fade away,
Like a sunshine rays across the bay