कडुवा सच बहुत दोस…

कडुवा सच

बहुत दोस्त खो दिए हैं
कडुवा सच बोलकर
फिर सोचा हमने जो
सच न सुन सकें वो दोस्त कैसे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *