कुछ अनुत्तरित सवाल…

कुछ अनुत्तरित सवाल

क्यों मोहब्बत कम हो जाती है जिन पर हम जान छिड़कते हैं
क्यों भरोसा उठ जाता है उनसे जिनकी बाँह हम खुद पकड़ते हैं

जिनके बारे में हम सुनना नहीं चाहते एक शब्द भी
क्यों उनकी हर बात पर हम अचानक इतना उखड़ते हैं

कहते तो सब हैं कि वक़्त के साथ प्यार और गहरा होता है
फिर आख़िर क्या होता है ऐसा कि बसते हुए घर उजड़ते हैं

अनगिनत होते हैं ऐसे सवाल जिनके उत्तर नहीं मिलते हैं
लगता है ईश्वर की इच्छा के अनुसार ही संबंध बनते और बिगड़ते हैं।

CategoriesUncategorized

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *