मुॅंह मोड़ा और देखा …

मुॅंह मोड़ा और देखा कितनी
दूर खड़े थे हम दोनों
आप लड़े थे हम से बस इक
करवट की गुंजाइश पर…

रेख्ता

CategoriesUncategorized

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *