तलाश मेरी थी और भटक …

तलाश मेरी थी और भटक रहा था वो,
दिल मेरा था और धड़क रहा था वो ||
प्यार का तालुक भी अजीब होता है,
आँसू मेरे थे सिसक रहा था वो ||

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *