मंजिल पाने की उम्मीद…

मंजिल पाने की उम्मीद
कभी मत छेड़िए, क्योंकि,

अक्सर सूरज के डूबने के
बाद ही दोबारा सवेरा होता है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *