तेरी आवाज़ की इक बूॅ…

तेरी आवाज़ की इक बूॅंद…
जो मिल जाए कहीं से…

आखिरी साॅंसों पे है रात-
ये बच जायेगी…

खामोशी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *