अब इससे बढ़कर…. गु…

अब इससे बढ़कर….
गुनाह-ए-आशिकी क्या होगी
जब रिहाई का वक्त आया तो,
पिंजरे से मुहब्बत हो चुकी थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *