केवल नमन उनको ज़ो हैँ…

केवल नमन उनको
ज़ो हैँ अरिहंत या संत
भले हीं न हों उनका कोई पंथ
मात्र समर्पन्न की वर्णमाला
यही है उनका एक मात्र मन्त्र

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *