चेहरा है मन के भावों का दर्पण

बांटना‌ है‌ सुख-दु:ख
चेहरा सामने लाइए
बिन चेहरा देखे कैसे
मन के भाव जानिए
यदि कहना चाहते हो
कुछ चेहरा छुपा कर
तो इससे अच्छा है उसे
दिल में ही दफन कीजिए।।

Eid – Al- Adha Mubarak

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *