क्या साबित करतें हो.. ✍

हजारों की भिड़ में रहते हो फिर भी खोये से
रहते हो, दुनियाँ से नजरें मिलाते हो या खुद
को ही झुठा साबित करतें हो…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *