तुम्हें शौक़ है ना …

तुम्हें शौक़ है ना हमारे सिर पर बैठने का

तो हमें भी शौक़ है बिगड़ों से ऐंठने का।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *