पैसों के मौहताज.. ✍

आज कल सपने इन कागजों के मौहताज हो
गयें है,पंख के जगह इन कागजों को लगाना
पड़ता है….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *