लोग इश्क़ समझते हैं …

लोग इश्क़ समझते हैं
लेकिन प्रेम नहीं समझते।

इश्क़ बहुत सीमित है प्रेम
का विस्तार नहीं समझते।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *