मिले थे हमें वो राह…

मिले थे हमें वो राह में अजनबी की तरह अब

बन गए हैं हिस्सा आँख के काजल की तरह..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *