किसी शहर में महकता ग…

किसी शहर में महकता गुलिस्तां न हो जाऊं
में हर ऐब सुधार लूं तो फरिश्ता न हो जाऊं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *