कमियाँ किसी में …

कमियाँ

किसी में ग़लतियाँ
ढूँढने से अच्छा है हम
किसी की अच्छाईयाँ भी देखें।

कहाँ ज़रूरत हैं हमें
खुद को बदलने की, उन
कमियों को दूर करने की सोचें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *