ज़रा नज़रों से कह दो…

ज़रा नज़रों से कह दो जी निशाना चूक न जाए
मज़ा जब है तुम्हारी हर अदा क़ातिल ही कहलाए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *