कितनों ने खरीदा सोन…

कितनों ने खरीदा सोना
मैने एक ‘सुई’ खरीद ली

सपनों को बुन सकूं
उतनी ‘डोरी’ खरीद ली

सबने बदले नोट
मैंने अपनी ख्वाहिशे बदल ली

‘शौक- ए- जिन्दगी’ कम करके
‘सुकून-ए-जिन्दगी’ खरीद ली…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *