रूह

छू लेने दो मुझे रूह को ,
जिस्म ने अक्सर सज़ा दिया मुझे ,
जिसपे जाँ से ज्यादा किया यकीं ,
बस उसी ने दग़ा दिया मुझे …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *