नाम

क़त्ल के हज़ार समान लिए चलती थी ,
इश्क़ की पूरी दुकान लिए चलती थी ,
और हम दफ़न हो गए जिनकी मोहब्बत में ,
वो सुबह शाम हमारा नाम लिये चलती थी …?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *