ना हाथ थाम सके ना पक…

ना हाथ थाम सके
ना पकड़ सके दामन,
बड़े करीब से उठ कर
चला गया कोई।

सादर श्रद्धांजलि
Saroj Khan

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *