जानते तो सब हैं, एक …

जानते तो सब हैं, एक दूसरे को यहाँ,
ग़ालिब…पर पहचानते नहीं है और
जो पहचानते हैं पाक दिल से,
वो बुरा मानते नहीं हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *