ऐसे ही न छोड़ देंगे…

ऐसे ही न छोड़ देंगे हम अपने क़द्रदानों को,

हँसाना और मनाना दोनों, हमें खूब आता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *