वक़्त के सितम कम हॅं…

वक़्त के सितम कम हॅंसीं नहीं

आज है यहाॅं कल कहीं नहीं

वक़्त से परे अगर मिल गयी कहीं

मेरी आवाज़ ही….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *