मैं खुल के हँस तो रह…

मैं खुल के हँस तो रहा हूँ
फ़क़ीर होते हुए,

वो मुस्कुरा भी न पाया
अमीर होते हुए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *