ॱ उस पल में कुछ तो खास थाॱ

हवाओं का एहसास था ,
उस पल में,जो मेरे पास था ,

उस पल में कुछ तो खास था।

यूँ तो मंजिलें अनजान थी ,
पर,
हवाओं का साथ था।

उस पल में कुछ तो खास था।

टूटा-सा कुछ ख्वाब था,
पर
सपनों का साथ था।

ॱ ॱउस पल में कुछ तो खास थाॱॱ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *