हम जैसे थे अच्छे थे …

हम जैसे थे अच्छे थे साहेब
बदलने पर अक्सर सवाल
पूछने लगते हैं लोग

                  "श्रवण राही"

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *