ढूँढी जब खुद की ग़ल…

ढूँढी जब खुद की ग़लतियाँ एक नज़र न आयी,

ढूँढ रहा था जो अपने में वो सब दूसरों में दी दिखाई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *