न रुकी वक़्त की गर्द…

न रुकी वक़्त की गर्दिश
न ज़माना बदला,

पेड़ सूखा तो परिंदों ने
ठिकाना बदला।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *