मैं ना जुगनू हूँ, दिया हूँ ना कोई तारा हूँ, रोशनी वाले मेरे नाम से जलते क्यूँ हैं

हम आये हैं तुम्हारे साथ रोने
हमारे पास भी मरहम नहीं है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *