उन्हीं यादों को सहे…

उन्हीं यादों को
सहेजिए,
जो ऑंखों में चमक
पैदा करें!

उन्हें नहीं…,
जो चेहरे पर
शिकन पैदा करें…!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *