वो बातें

चलो कोई तो थी जो मेरे लिए अपने हाथों की नस काटा करती थी ,देर रातों में उठ-उठकर हमसे दो-चार बातें वो प्यार की सुनाया करती थी।

One Reply to “वो बातें”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *