रातो को चलती रही मो…

रातो को चलती रही मोबाइल पर उंगलियां,
सीने पर किताब रख के सोऐ , एक अरसा गुज़र गया।
रेखा विवेक शर्मा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *