न जाने कब खर्च हो गय…

न जाने कब खर्च हो गया, पता ही नहीं चला।
वो लम्हे जो छुपा कर रखे थे , जीने के लिए।
रेखा विवेक शर्मा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *