ये मशीनी दौर है साहब…

ये मशीनी दौर है साहब,

यहाँ ऊँगली से डिलीट कर दी जाती है
चंद मुलाकातों की यादें !!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *