तेरे गिरने में, तेर…

तेरे गिरने में,
तेरी हार नहीं।

तू आदमी है,
अवतार नहीं।।

गिर, उठ, चल,
दौड़, फिर भाग
क्योंकि

जीत संक्षिप्त है
इसका
कोई सार नहीं।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *