एक ख़त तेरे नाम…

लिखूं तो लिखूं क्या…
जज़्बात बयां करुं तो क्या…
स्याहि से कलम भिगों तो लू…
पर मेरा ख़त तुम पढ़ोगे क्या ..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *