ये जब्र भी देखा है त…

ये जब्र भी देखा है तारीख़ की नज़रों ने
लम्हों ने ख़ता की थी सदियों ने सज़ा पाई

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *