love

कोई मिले इस तरह कि फिर जुदा न हो,
समझे मेरा मिजाज और कभी नाराज़ न हो,
अपने एहसास से बाँट ले सारी तन्हाई मेरी,
इतनी मोहाब्बत दे जो पहले किसी ने किसी की न हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *