कहाँ कोई ऐसा मिला जि…

कहाँ कोई ऐसा मिला जिस पर हम दुनिया लुटा देते; हर एक ने धोखा दिया, किस-किस को भुला देते; अपने दिल का ज़ख्म दिल में ही दबाये रखा; बयां करते तो महफ़िल को रुला देते

harish

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *