वो बुलंदियां भी कि…

वो बुलंदियां भी किस काम
की, जनाब….

इंसान चढ़े और इंसानियत
उतर जाए….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *