दर्द ए जिंदगी

दुनिया के कई बदलते रंग देखे हैं मैंने
समय के साथ लोगों को बदलते देखा है मैंने
आखिर कैसे भरोसा करूं इस बदलती हुई जिंदगी का
क्या पता न जाने मुझे किस पल बदल दे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *