पुरानी हो के भी ख़ा…

पुरानी हो के भी
ख़ास होती जा रही है
मोहब्बत बेशर्म है जनाब
बेहिसाब होती जा रही है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *