गुरुर हुस्न का नहीं …

गुरुर हुस्न का नहीं साफ नीयत का है!!

वरना हुस्न की गलियों में ढलती शामें तुमने भी देखीं हैं और हमने भी देखी हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *