तुझको सौंप दूं

मोहब्बत का तराजू सौंप दूं
या नफरत का आइना सौंप दूं
पत्थर की चिंगारी सौंप दूं
दरकती दीवार से आ रही रोशनी सौंप दूं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *